Krishna Leela Poetry - Sumedh Mudgalkar - Radha Krishna

There are so many allegations on Lord Krishna Lila for being biased and about his more than 16000 Queens and ashtabharya . So this is an answer to all those fools who knows nothing and boast like they're the most Gyaani person on planet earth....
       Jai Shree Krishna

Krishna Leela Poetry - Sumedh Mudgalkar - Radha Krishna


Krishna Leela Poetry - Sumedh Mudgalkar - Radha Krishna Today Promo


सावला स्वरूप तेरा , कण कण से गोरा हैं।
मथुरा में अवतार लिया , नन्द बाबा का छोरा हैं।।
गोकुल में बचपन बीता, नटखट तो कभीं भोला हैं।।
बंसी बजाए जैसें , कोई तान छोड़ा हैं।
मथुरा के लोग झुमे, हवा में मिसरी घोला हैं।।
मईया यशोदा के, सबसे दुलारे है।
गाय चराते कान्हा, माखन के प्यारे हैं।।
गोपियों की मटकी फोड़, कहीं छुप जाते है!
डांट जब पड़ती घर में , बहाने बनाते है।।
यमुना के तट पर , जब बांसुरी बजातें है।
गोपियाँ तो नाचें ही , खुद भी पांव हिलाते हैं।।
मयूर के पंख को , माथे पर सजाते है।
कमर में बंसी डालें , प्रेम बरसाते हैं।।
कृष्ण तेरी लीला , सबसे अनोखी हैं।
पूरी कहानीं मैंनें , बार-बार देखीं हैं।।

 



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ